खैरात में तो हम तुम्हारी मोहब्बत भी न लें!!!

हक़ से दो तो तेरी नफरत भी कुबूल है हमें
.
.
.
.
 खैरात में तो हम तुम्हारी मोहब्बत भी न लें!!!