अभी " बहोत " ईमान बाक़ी है

तोड़ा है वक़्त ने मुझे

पर अभी भी " थोड़ी " सी जान बाक़ी है

ना झुका था ना झुकूँगा

अभी " बहोत " ईमान बाक़ी है 

No comments :