शायरी प्यार की - प्यार मोहब्बत की शायरी

शायरी प्यार की, प्यार मोहब्बत की शायरी, सच्चा प्यार की शायरी, हिन्दी लव शायरी, हिंदी शायरी प्यार भरी, प्यार भरी शायरी हिन्दी मे




मोहब्बत की बर्बादी का क्या अफसाना था.
दिल के टुकड़े हो गये पर लोगो ने कहा वाह क्या निशाना था।।
कभी इतना मत मुस्कुराना की नजर लग जाए जमाने की
हर आँख मेरी तरह मोहब्बत की नही होती....!!!
कुछ नहीं चाहिए तुम्हारी एक मुस्कान ही काफी है,
तुम दिल में बसे रहो ये अरमान ही काफी है,
हम ये नहीं कहते हमारे पास आ जाओ,
बस हमें याद रखना ये एहसान ही काफी है
जरुरी नहीं कि इंसान प्यार की मूरत हो
सुंदर और बेहद खूबसूरत हो,
अच्छा तो वही इंसान होता है,
जो तब आपके साथ हो,
जब आपको उसकी जरुरत हो।



आओ ले चलें इश्क को वहाँ तक
जहाँ फिर से कोई कहानी बने जहाँ
फिर कोई गालिब नज्म़ पढे
फिर कोई मीरा दिवानी बने !! 
उनकी मोहब्बत के अभी निशान बाकी है,
नाम लब पर है और जान बाकी है,
क्या हुआ अगर देख कर मुंह फेर लेते है,
तसल्ली है की शक्ल की पहचान बाकी है. .
 मुहब्बत में सच्चा यार न मिला
दिल से चाहे हमें वो प्यार न मिला।
लूटा दिया उस लिए सब कुछ मैने
मुसीबत में मुझे मददग़ार न मिला।
मेरे वजूद में काश तु उतर जाऐ,
मैं देखुँ आईना और तु नज़र आऐ,
तु हो सामने और वक्त ठहर जाऐ,
ये जिन्दगी तुझे यूँ देखते हुऐ गुजर जाऐ.. 

अभी " बहोत " ईमान बाक़ी है

तोड़ा है वक़्त ने मुझे

पर अभी भी " थोड़ी " सी जान बाक़ी है

ना झुका था ना झुकूँगा

अभी " बहोत " ईमान बाक़ी है 

लफ़्ज़ों के इत्तेफाक़ में यूँ बदलाव करके देख

लफ़्ज़ों के इत्तेफाक़ में यूँ बदलाव करके देख

तू देख कर न मुस्कुरा बस मुस्कुरा के देख 

इतना असर मेरी दुआओ मे हो

भीगे मौसम की खुश्बू हवओ मे हो,

आपकी दोस्ती का एहसास इन फिजाओ मे हो,

यूही रहे आपके होठो पे मुस्कुराहट,

इतना असर मेरी दुआओ मे हो

इंसान अपनी *कमाई* के *हिसाब* से नही*

इंसान अपनी *कमाई* के *हिसाब* से नही*

अपनी *जरूरत* के *हिसाब* से गरीब होता है